राजनीतिक रंग में रंगे बाहुबली नेता आनंद मोहन, कहा- मैं दोषी हूं, तो फांसी पर चढ़ने को तैयार

May 12, 2023 - 05:21
 0  19
राजनीतिक रंग में रंगे बाहुबली नेता आनंद मोहन, कहा- मैं दोषी हूं, तो फांसी पर चढ़ने को तैयार

उन्होंने विरोधियों पर हमला करते हुए कहा कि यह देश किसी की जागीर नहीं है। सबने अपने खून से इसे सींचा है। मैं कानून और संविधान में विश्वास करता हूं। बिना किसी शिकायत के मैने 15 साल जेल काटा।

बिहार में पूर्व सांसद और बाहुबली नेता आनंद मोहन जेल से रिहा होने के बाद फिर से सियासी रंग में रंगे दिख रहे हैं। न्यूज एजेंसी एएनआई पर आनंद मोहन का एक वीडियो शेयर किया गया है। जानकारी के मुताबिक वह अररिया जिले में आयोजित एक कार्यक्रम में भाग लेने पहुंचे थे। इस दौरान विरोधियों पर वो जमकर बरसे। उन्होंने विरोधियों पर हमला करते हुए कहा कि यह देश किसी की जागीर नहीं है। सबने अपने खून से इसे सींचा है। मैं कानून और संविधान में विश्वास करता हूं। बिना किसी शिकायत के मैने 15 साल जेल काटा। अगर सरकार को लगता है कि मैं दोषी हूं तो मुझे फांसी पर सरकार चढ़ा दें, इसके लिए मैं तैयार हूं। 

IAS हत्याकांड पर क्या बोले आनंद मोहन

आनंद मोहन में आईएएस जी कृष्णैया हत्याकांड पर बोलते हुए कहा कि मैं इस हत्याकांड में दोषी नहीं हूं। दोषी नहीं होने के बावजूद 15 साल मैंने जेल में बिताए। मगर मेरे जेल से छूटने के बाद कई लोग अपनी राजनीति चमकाने में लगे हुए हैं और बयानबाजी कर रहे हैं। बता दें कि जेल से रिहाई के बाद पहली बार आनंद मोहन किसी सार्वजनिक सभा में बोलते दिखे हैं। अररिया जिले के फारबिसगंज के फैंसी मार्केट में बाबू वीर कुंवर सिंह की प्रतिमा का अनावरण समारोह का आयोजन किया गया था। इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए आनंद मोहन अपनी पत्नी लवली आनंद के साथ पहुंचे थे।

आईएएस की हत्या क्यों?

समारोह में आनंद मोहन ने संबोधित करते हुए कहा कि इस हत्याकांड में मैं दोषी नहीं हूं, फिर भी मैंने 15 साल जेल काटा। अगर आज तक किसी ने ये जानने की कोशिश नहीं की कि आखिर यह हत्या क्यों हुई। मेरी पत्नी लवली आनंद ने संसद में इस इस हत्याकांड की सीबीआई जांच की मांग की थी। लेकिन सीबीआई जांच नहीं कराई गई। उन्होंने कहा कि अगर उनके बारे में जानना चहते हैं तो लालकृष्ण आडवाणी और नवीन पटनायक से पूछिए। बता दें कि हाल ही में 15 साल की सजा काटने के बाद बाहुबली नेता आनंद मोहन को रिहा कर दिया गया है। इस मामले में लगातार नीतीश के विपक्षियों द्वारा नीतीश सरकार व उसके फैसलों पर निशाना साधा जा रहा है। 

 

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow