"लंदन में मैच के दौरान चलीं गोलियां", तीन घायल; दो गुटों में झड़प से शुरू हुआ था विवाद !!

दो गुटों में झड़प के बाद हिंसा भड़क उठी। गोलीबारी शुरू हो गई और कुछ लोगों ने जमकर तलवार भी चलाई। इस घटना में तीन लोग घायल हुए हैं। गोलीबारी के बाद भगदड़ मच गई।

Aug 21, 2023 - 11:04
 0  26
"लंदन में मैच के दौरान चलीं गोलियां", तीन घायल; दो गुटों में झड़प से शुरू हुआ था विवाद !!

इंग्लैंड के ईस्ट मिडलैंड्स क्षेत्र में ब्रिटिश पंजाबी समुदाय से जुड़े एक कबड्डी टूर्नामेंट में बड़े पैमाने पर अव्यवस्था फैलने और भगदड़ मचने के बाद तीन लोग घायल हो गए, जिनमें से एक की हालत गंभीर बनी हुई है। डर्बीशायर पुलिस ने कहा कि डर्बी के अल्वास्टन में एल्वास्टन लेन के इलाके में बड़ी संख्या में पुलिस की मौजूदगी रहेगी, जहां रविवार को झड़प हुई थी। 

कबड्डी टूर्नामेंट की कई तस्वीरें और वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं। इन वीडियो में देखा जा सकता है कि बड़ी संख्या में लोग इधर-उधर भाग रहे हैं और भीड़ में भगदड़ मची हुई है। वीडियो में गोलियां चलाने की आवाज सुनी जा सकती है। कुल लोग तलवार भांजते हुए भी दिख रहे हैं। माना जा रहा है कि यह घटना दो प्रतिद्वंद्वी गिरोहों के बीच झड़प का नतीजा थी।

डर्बीशायर पुलिस ने कहा, "हमें रविवार 20 अगस्त को शाम चार बजे के करीब सूचना दी गई कि एल्वास्टन लेन, अल्वास्टन में बड़े पैमाने पर भगदड़ मच गई है और हालात काबू में करने के लिए पुलिस की जरूरत है।"

पुलिस की तरफ से कहा गया, "तीन लोग घायल हो गए हैं, जिनमें से एक गंभीर रूप से घायल है। उन सभी को अस्पताल ले जाया गया है। इलाके में बड़ी संख्या में पुलिस मौजूद है और अधिकारियों के कुछ समय तक घटनास्थल पर रहने की उम्मीद है।" पुलिस ने इस घटना के गवाहों को भी सूचना देने के लिए कहा है। पुलिस ने कहा कि यदि आपके पास घटना के बारे में जानकारी है तो आगे भेजें।

डर्बी वर्ल्ड के अनुसार, रविवार को आयोजित कार्यक्रम में यूके भर से विशेषज्ञ खिलाड़ियों को इंग्लैंड कबड्डी फेडरेशन के टूर्नामेंट के लिए एक साथ लाया गया, जो कई फिक्स्चर से बना था। स्थानीय डर्बी टीम को गुरु अर्जन देव गुरुद्वारा कबड्डी क्लब के नाम से जाना जाता है और यह 30 वर्षों से अधिक समय से यह खेल खेल रही है।

गुरु अर्जन देव गुरुद्वारा कबड्डी क्लब के उपाध्यक्ष कुली छोकर ने टूर्नामेंट से पहले स्थानीय मीडिया आउटलेट को बताया, "कबड्डी पारंपरिक रूप से एक भारतीय आधारित खेल है। अब यह निश्चित रूप से एक अंतरराष्ट्रीय खेल बन गया है। हां, यह प्रतिस्पर्धा का दिन है, लेकिन यह खेल देखने वाले लोगों और खेल के खिलाड़ियों के लिए भी एक रोमांचक दिन है। लोग खेल का आनंद ले सकते हैं और कार्रवाई देख सकते हैं और अपनी टीमों को प्रोत्साहित करते हुए इसे प्रत्यक्ष रूप से देख सकते हैं।" 

Disclaimer :  fastnewsplus ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर amar ujala की फीड से प्रकाशित की गयी है।



हालांकि, उस दिन अराजकता फैल गई क्योंकि खेल के दिन का आनंद लेने के लिए भीड़ जमा हो गई।

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow